मेरे भाव मेरी अभिव्यक्ति

मेरे भाव मेरी अभिव्यक्ति


मेरे भाव कुछ भी हों ,
पर अभिव्यक्त मैं, न कर पाती ।
ऐसा क्यों होता मेरे साथ ,
यह समझ न पाऊं मैं।

भाव तो होते मेरे नेक ,
पर अभिव्यक्ति में ही दोष ।
अब मैं कैसे समझाऊँ ,
जो हो उनको यकीन ।

मैं तो सोच समझकर बोलूँ ,
जो न लगे अप्रिय उन्हें ।
पर त्रुटि तो रह ही जाती ,
मैं भी मानूँ , हूँ मैं इंसान ।

मेरे अंतर्मन की भाषा ,
समझ न पाए, यह मेरा कसूर ।
मैं कैसे उन्हें कष्ट पहुँचाऊँ ,
जिनपर मैं करूँ सदा यकीन।


-कुसुम ठाकुर -

6 comments:

नीरज गोस्वामी said...

मैं तो सोच समझकर बोलूँ ,
जो न लगे अप्रिय उन्हें ।
पर त्रुटि तो रह ही जाती ,
मैं भी मानूँ ,मैं हूँ इंसान ।

सही कहा आपने...बहुत शाशाक्त अभिव्यक्ति की है अपने भावों की...बधाई...
नीरज

Pankaj Mishra said...

भाव तो होते मेरे नेक ,
पर अभिव्यक्ति में ही दोष ।
अब मैं कैसे समझाऊँ ,
जो हो उनको यकीन ।

bahut acchaa likha hai aapne !

tulsibhai said...

" dil se agar kuch likhe to natiza aisi adbhut abivyakti ke roop me ubhar aata hai ....aapko aisi sunder rachana ke liye badhai "

----- eksacchai{ aawaz}

http://eksacchai.blogspot.com

http://hindimasti4u.blogpost.com

Nirmla Kapila said...

बहुत सुन्दर रचना है बधाई

Kusum Thakur said...

आप सभी का प्रतिक्रिया के लिए आभार ।

िकरण राजपुरोिहत िनितला said...

बहत अच्छी और चिन्तनशील रचना!!!!!!!!!
ििकरण राजपुराेिहत ििनितला