सारे वादों को मैं भूल जाऊँ सही


"सारे वादों को मैं भूल जाऊँ सही "

सारे वादों को मैं भूल जाऊँ सही 
और कसमों को दिल से मिटाऊँ सही 

एक तुम ही सदा रहनुमा थे मेरे
सारे मंज़र को दिल में उतारूँ सही 

आइना भी मुझे अब लगे बदनुमा 
चाहे लाख मैं खुद को सवारूँ सही 


आहट भी मुझे अब लगे खौफ सा
सच्चाई गले से लगाऊँ सही 

अब दरख्तों की छावों तले न सुकून 
जो मैं बैठी हूँ कैसे बताऊँ सही 


इल्तजा भी करुँ तो अब कैसे करूँ 
कैसे ढूँढूँ जो मिल पाऊँ सही 

- कुसुम ठाकुर -


शब्दार्थ :
रहनुमा - पथ प्रदर्शक , मार्ग दर्शक 
बदनुमा - कुरूप, भद्दा , जो देखने में अच्छा न हो 
दरख्तों - पेड़ 
इल्तजा - प्रार्थना , विनय , निवेदन 

20 comments:

विनोद कुमार पांडेय said...

आइना भी मुझे अब लगे बदनुमा
चाहे लाखों मैं खुद को सवारूँ सही

बढ़िया रचना!!!

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

एक तुम ही सदा रहनुमा थे मेरे
सारे मंज़र को दिल में उतारूँ सही

आइना भी मुझे अब लगे बदनुमा
चाहे लाखों मैं खुद को सवारूँ सही

बहुत अच्छी तरह जज्बातों को कहा है ...सुन्दर रचना

ललित शर्मा said...

भावमयी कवि्ता है

आभार

Pankaj Trivedi said...

कुसुम जी, बहुत ही गहराई से आई हुई इस रचना ने प्रभावित कर दिया | प्रत्येक शब्द की अनिवार्यता जहां सिद्ध होती है, वह कविता अनमोल ही होगी न...! हार्दिक बधाई |
* * * * * * * * * *
आइना भी मुझे अब लगे बदनुमा
चाहे लाखों मैं खुद को सवारूँ सही
****
अब दरख्तों की छावों तले न सुकून
जो मैं बैठी हूँ कैसे बताऊँ सही

अनामिका की सदायें ...... said...

दर्द से सराबोर एहसासों को सुंदर शब्दों में ढाला है.

मनोज कुमार said...

आइना भी मुझे अब लगे बदनुमा
चाहे लाखों मैं खुद को सवारूँ सही
दिल को छू गई ये पंक्तियां।बहुत अच्छी भावाभिव्यक्ति।

RAMJI said...

BAHUT HI BHAVPURN KAVITA HAI KUSUM JI .
HAR PANKTI AAPKE DIL KE AHSAS KO SAKAR KARTI HAI . ZINDGI KE TALKH ANUBHAVON AUR JHOOTH PAR AADHARRIT DUNIYA KE NAKLI ROOP KO AAPNE KHARIZ KIYA HAI AUR SAHJATA KE KARIB PAHUNCHI HAIN. BESHAK AAPKI KAVITA ME BANAAV --THANAV KI ZAROORAT NAHIN HAI.UJHE LAGTA HAI AAP MUKT CHHAND ME LIKHENTO UN DABAVON SE MUKT HOKAR L8IKH SAKTI HAIN JO RADEEF -KAFIYE AUR BAHAR SE PAIDA HOTE HAIN . TAB SHAYAD AAP ADHIK SASHAKT ABHIVYAKTI SE SAMPANN HONGI AUR AAPKE SAMNE VICHARON AUR ANUBHAVON KA KHULA AAKASH HOGA.
FILHAAL MERI SHUBHKLAMNAYEN!

निर्मला कपिला said...

आइना भी मुझे अब लगे बदनुमा
चाहे लाखों मैं खुद को सवारूँ सही
अब दरख्तों की छावों तले न सुकून
जो मैं बैठी हूँ कैसे बताऊँ सही
बहुत खूब। अच्छी लगी रचना। शुभकामनायें

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी रचना 28 - 9 - 2010 मंगलवार को ली गयी है ...
कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया

http://charchamanch.blogspot.com/

वीना said...

आइना भी मुझे अब लगे बदनुमा
चाहे लाखों मैं खुद को सवारूँ सही
बहुत सुंदर रचना
http://veenakesur.blogspot.com/

mahendra verma said...

ग़ज़ल के भाव बहुत गहरे हैं । ...अति सुंदर।

ritu singh said...

bohot khoob likha hai aapne.... apki soch ki tarah sundar...

arun c roy said...

" इल्तजा भी करुँ तो अब कैसे करूँ
कैसे ढूँढूँ जो मिल पाऊँ सही "... बहुत उम्दा गज़ल्नुमा गीत!

sada said...

एक तुम ही सदा रहनुमा थे मेरे
सारे मंज़र को दिल में उतारूँ सही

आइना भी मुझे अब लगे बदनुमा
चाहे लाख मैं खुद को सवारूँ सही

बहुत ही सुन्‍दर पंक्तियां, भावमय प्रस्‍तुति
,

चर्चामंच का आभार इस सुन्‍दर रचना को पढ़वाने के लिये ।

शरद कोकास said...

अच्छी रचना

girish pankaj said...

yeh kavita sundar ghazal mey roopantarit ho sakti hai. adbhut sambhavana hai isame. badhai is kavita ke liye. dil se likha hai aapne..kya baat hai. samay nikalkar is kavita ko shero me badaliye. tab iska mazaa aur barh jayegaa. filhaal ye kavitaa dil ko chhone me safal hai.badhai. videsh mey bhi aap sahitya-seva mey lagi hai.

Udan Tashtari said...

बहुत उम्दा!!

राजभाषा हिंदी said...

बहुत अच्छी प्रस्तुति। राजभाषा हिन्दी के प्रचार-प्रसार में आपका योगदान सराहनीय है।
काव्य प्रयोजन (भाग-१०), मार्क्सवादी चिंतन, मनोज कुमार की प्रस्तुति, राजभाषा हिन्दी पर, पधारें

Mrs. Asha Joglekar said...

Prem aur virah me yahee sab hota hai.
आइना भी मुझे अब लगे बदनुमा
चाहे लाखों मैं खुद को सवारूँ सही
Sunder parastuti.

मनोज कुमार said...

बहुत अच्छी प्रस्तुति। हार्दिक शुभकामनाएं!
कोटि-कोटि नमन बापू, ‘मनोज’ पर मनोज कुमार की प्रस्तुति, पधारें