हाले दिल बयां करूँ अब मैं कैसे

" बयाँ हाले दिल का करूँ अब मैं कैसे"

बयाँ हाले दिल का करूँ अब मैं कैसे 
खलिश को छुपाकर रहूँ अब मैं कैसे 

बुझी कब ख्वाहिश नहीं इल्म मुझको 
तन्हाइयाँ भी सहूँ अब मैं कैसे 

चिलमन से देखी बहारों को जाते 
हिले होठ मेरे कहूँ अब मैं कैसे 

हो उल्फत की चाहत ये मुमकिन नहीं   
रहे दूर चेहरा पढूं अब मैं कैसे 

- कुसुम ठाकुर -

शब्दार्थ :
खलिश - कसक, चिंता, आशंका,पीड़ा, 
इल्म - ज्ञान, जानकारी 
चिलमन - चिक, बांस के फट्टियों का पर्दा 

गिले शिकवे सपनों में आके रुला दे


"गिले शिकवे सपनों में आके रुला दे "

सफ़र खूबसूरत जो वादे भुला दे ,
गिले शिकवे सपनों में आके रुला दे .

चमन भी है सूना घर भी है सूना ,
ख़ुशी की वो घड़ियाँ गम को भुला दे . 
सफ़र ........................................

कटे भी न अब लागे लम्बी ये रातें ,
वो यादों के मंज़र में मुझको झुला दे .
सफ़र ...........................................

मिला मुझको वो मैं न चाही कभी थी,
परछाइयाँ मुझको खुशियाँ दिला दे .
सफ़र ........................................

सफ़र यूँ तो कट जाए बाकी बचा जो,
दे शक्ति मुझे जो न जग को भुला दे . 
सफ़र ......................................

- कुसुम ठाकुर -